Growth of Food Processing Industry and other Ministry of Food Processing Industries News


Delhi, Aug 2

As per latest Annual Survey of Industries(ASI) 2018-19, the total output in food processing sector has been increased from Rs. 9,34,272.19 crore in 2014-15 to Rs.12,76,995.11 crore in 2018-19 at the Compound Annual Growth Rate of 8.13%. The number of persons engaged in the registered food processing sector increases from 17.73 lakh in 2014-15 to 20.05 lakh in 2018-19.As per the National Sample Survey (NSS 73rd round 2015-16), a total of 51.11 lakh persons are engaged in the unincorporated/unregistered food processing sector.

The efforts being made for promoting exports of processed food products are:

(i) A comprehensive “Agriculture Export Policy” has been introduced to harness export potential of Indian agriculture.

(ii) Products Specific Export Promotion Forums set up by Agricultural and Processed Food Products Export Development Authority (APEDA) to give impetus to the export of potential products as well as to remove the bottlenecks in the supply chain.

(iii) APEDA has also formed Export Promotion Forums (EPFs) for the products, viz., Grapes, Onions, Mango, Banana, Pomegranate, Floriculture, Rice,Dairy Products and Nutri cereals.

(iv) A Farmer Connect Portal has been set up for providing a platform for farmers, Farmer Producer Organizations (FPOs) and cooperatives to interact with exporters.

(v) Assistance provided through several other schemes to promote exports, including food export, viz. Trade Infrastructure for Export Scheme (TIES), Market Access Initiatives (MAI) Scheme, Remission of Duties and Taxes on Exported Products (RoDTEP), Export Promotion schemes of APEDA &Marine Products Export Development Authority (MPEDA) etc.

(vi) Under the Production Linked Incentives (PLI) scheme for food products, marketing and branding support is provided by MoFPI for enhancing global visibility of Indian food products.

Further, the Ministry of Food Processing Industries(MoFPI) is implementing a Centrally Sponsored Scheme-PM Formalisation of Micro Food Processing Enterprises (PM FME) from the year 2020-21 for providing financial, technical and business support for upgradation / setting up of 2 lakh micro food processing enterprises based on One District One Product (ODOP) approach. The scheme is being implemented for the period 2020-21 to 2024-25 with an outlay of Rs. 10,000 crores.

MoFPI is implementing Central Sector Scheme–Pradhan Mantri Kisan SAMPADA Yojana (PMKSY) since 2016. PMKSY provides a big boost to the growth of food processing sector in the country helping thereby the farmers in getting better prices for their produces due to higher demand for agricultural produce by the food processing industries as raw material. It is thus a big step towards increasing the farmers’ income in addition to creating employment opportunities especially in the rural areas, reducing wastage of agricultural produce and enhancing the export of the processed foods.

This information was given by Minister of State for M/o Food Processing Industries, Shri Prahlad Singh Patel in a written reply in Lok Sabha today

Capacity of Cold Chains

Delhi, Aug 2

As per a study on “All India Cold Chain Infrastructure Capacity (Assessment of Status & Gap)” conducted by NABARD Consultancy Services Pvt. Ltd. (NABCONS) that was commissioned by the National Centre for Cold Chain Development (NCCD) under Department of Agriculture, Cooperation and Farmers Welfare in the Ministry of Agriculture & Farmers Welfare, the requirement of cold storage in the country is 35 million MT, while capacity of such storage is around 32 million MT.

Though the Government is not establishing such facilities on its own, it is implementing various demand driven schemes like Pradhan  Mantri Kisan Sampada Yojna (PMKSY) and Mission for Integrated Development of Horticulture (MIDH) for extending financial support for setting up of such facilities by individuals/ entities who come forward with eligible proposals as per respective scheme guidelines.

This information was given by Minister of State for M/o Food Processing Industries, Shri Prahlad Singh Patel in a written reply in Lok Sabha today

Promotion of FPIS FOR Herbal, Horticulture and Floriculture

Delhi, Aug 2

 In order to ensure overall development of Food Processing Industries in the country, including those based on herbal and horticulture produce, Ministry Food Processing Industries (MoFPI) is implementing Central Sector Umbrella Scheme Pradhan Mantri Kisan SAMPADA Yojana (PMKSY), Production Linked Incentive Scheme for Food Processing Industry (PLISFPI) and Centrally sponsored PM Formalization of Micro Food Processing Enterprises (PMFME) Scheme. These schemes are, inter alia, intended to reduce post-harvest losses of perishables. Year-wise detail of expenditure made in these schemes since 2019-20 is placed at Annexure.

As per latest Annual Survey of Industries (ASI) 2018-19, the total number of persons engaged in food processing sector are 20.05 lakh in registered sector and as per National Sample Survey (NSS) 2015-16 report 51.11 lakh in unincorporated / unregistered sector.

astrology Chandigarh News Choices Covid editor's pick Haryana News Headline Health News Highlight Himachal News India News Jammu&Kashmir latest jobs Mizoram North India News Panchkula News Panjab University Popular Punjab news Top Trendy What's New

  • Executive Committee Meeting of FOSWAC  held  
    Chandigarh  The Executive Committee Meeting of FOSWAC (Federation of Sectors Welfare Association Chandigarh) was held at “People Convention Centre” sector 36  Chandigarh on Sunday 31 st March 2024 under the chairmanship of Sh.  Baljinder Singh Bittu. It was attended overwhelmingly by sixty federating members of RWAs.    The General secretary welcomed the participants. The newly elected Presidents Dr Cheema and   Amardeep Singh as President of RWAs sectors  34 and sector 39 respectively were congratulated. Addressing the members Baljinder Singh Bittu Chairman FOSWAC raised the issue of Community Centres. He said “community centers are not for  community” Residents are not allowed to even enter the community centres  specially after their renovation, where crores of public money are spent. The Municipal Corporation has converted these community centres into Marriage  Palaces. There are community rooms for Yoga, reading, Gymnasiums, Badminton courts etc. but residents are not allowed to use them. Earlier all  such facilities were available to the residents. In the name of Election Code even the paid bookings are cancelled. About the water tariff and free parking charges, he said that the Municipal Corporation and the Administration has imposed many Taxes on the residents  and they are required to pay more in the …
  • फिजियो कनेक्ट 4 में पवन बंसल ने डॉक्टरों को किया सम्मानित
    फिजियोथेरेपिस्ट्स की नेशनल कांफ्रेंस में पवन बंसल ने क्लिनिकल एक्सीलेंस अवार्ड किये वितरित चंडीगढ़ ,  शहर के पूर्व सांसद व वरिष्ठ कांग्रेस नेता पवन बंसल ने ला ऑडिटोरियम में आयोजित  फिजियो कनेक्ट 4 अवॉर्ड  सेरेमनी में विशिष्ट अतिथि के रूप में शिरकत की व चयनित  फिजियोथैरेपिस्ट्स को अवॉर्ड से नवाजा ।  पवन बंसल ने कहा कि  फिजियोथेरेपिस्ट की भूमिका को भारत के स्पोर्ट्स परिदृश्य में विशिष्ट स्थान प्राप्त है। आज के आधुनिक भारत में स्पोर्ट्स इंजरी एक बहुत ही आम समस्या है, लेकिन आम लोग इसके लिए फिज़ियोथैरेपी लेने से परहेज़ करते है, जबकि फिजियोथैरेपिस्ट्स ने नई से नई टेक्नोलॉजी ईजाद कर लाखों लोगों को उनकी परेशानियों से निजात दिलाई है। खिलाड़ियों को अपने खेल में वापस लाने की क्षमता भी फिजियोथैरेपिस्ट्स में जिसके नतीजे वह काबिलेतारीफ हैं ।  इस समारोह में देशभर से जाने माने फिजियोथैरेपिस्ट एकत्र हुए थे जिनमें से समाज में विशिष्ट योगदान देने वालों को सम्मानित किया गया।
  • काग़ज़ी विकास का कब तक ढोल पीटेगी भाजपा, जनता हक़ीक़त से है भली-भांति वाकिफ- पवन बंसल
    चंडीगढ़ शहर के पूर्व सांसद और वरिष्ठ कांग्रेस नेता पवन कुमार बंसल ने जीएमसीएच 32 में चल रहे प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर को भाजपा की जालसाज़ी बताया है। पवन बंसल ने कहा कि भाजपा को सिर्फ काग़ज़ी विकास ही करना आता है। ज़मीनी स्तर पर जनता के लिए कोई काम भाजपा ने किया ही नहीं। “चंडीगढ़ को डिस्पेंसरियों से लेकर छोटे-बड़े सभी तरह के अस्पतालों की सुविधाएँ कांग्रेस के वक्त ही मिल गई थी, जिनमें लोगों को घर के पास ही स्वास्थ्य सेवाएँ मिल जाती थी, लेकिन भाजपा ने इन डिस्पेंसरियों का नाम बदल कर आयुष्मान भारत हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर कर दिया और सिर्फ बाहर से रंग बदल कर इसे अपनी स्कीम के तौर पर प्रचार कर दिया, जबकि सुविधाएँ ज़रूरत के हिसाब से बढ़ाई ही नहीं गई। काग़ज़ों में ऐसे 15 सेंटर दिखाए गए, जिनमें से एक तो जीएमसीएच 32 के प्रशिक्षण केंद्र में ही चल रहा है। जबकि मेडिकल कॉलेज में सामुदायिक चिकित्सा विभाग के डॉक्टर पहले से ही ओपीडी चला रहे थे। ये है भाजपा का काग़ज़ी विकास, जहाँ जनता के लिए सहूलत है ही नहीं।”
  • The University School of Law, Sri Guru Granth Sahib World University holds  Seminar   on  ‘International Women’s day’
    Sri Guru Granth Sahib World University   holds  Seminar   on  ‘International Women’s day’  Chandigarh  , March 19  The University School of Law, Sri Guru Granth Sahib World University, Fatehgarh Sahib organized ‘International Women’s day’ on 13 March 2024, under the patronage of the Vice Chancellor Dr. Pritpal Singh. The Event was attended by all the students and Faculty Members of the Department and was graced by the presence of the esteemed guest and senior members of the University. Dr. Sunaina Assistant Professor, formally, Welcome the dignitaries present on the occasion and spoke briefly on the theme of the event. Dr. Param Jeet Singh Convener and Head of the Department elaborated the theme on the Women’s day i.e. “Inclusive Inclusion”. He referred to the Hindu Succession Act, 2005, Uniform Civil Code and the change of position for the married women in the year 2010 on Adoption laws. The Key-note Speaker Madam Parmjit Kaur Landran, Member SGPC, focused on the various achievements of the women and highlighted about their rights. She stressed that Education should be imparted to all the women and then only their problems would be redressed which are based upon ground realities. She specifically referred to vishaka’s case and pointed …
  • बंडारू दत्तात्रेय से डा.   कृष्णा एम. एला ने शिष्टाचार मुलाकात की
    चंडीगढ़, , 08 मार्च – हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय से राजभवन हरियाणा में भारत के महान वैज्ञानिक एवं भारत बायोटेक के कार्यकारी अध्यक्ष डा.   कृष्णा एम. एला और उनकी धर्मपत्नी श्रीमती सुचित्रा के. एला, भारत बायोटेक की प्रबंध निदेशक ने शिष्टाचार मुलाकात की। श्री बंडारू दत्तात्रेय ने श्री कृष्णा एम.  एला एवं श्रीमती सुचित्रा के. एला को शाल उढ़ाकर तथा भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति भेंट कर उनका स्वागत एवं अभिनंदन किया। श्री बंडारू दत्तात्रेय ने दोनों वैज्ञानिकों की प्रसंशा करते हुए कहा कि आप दोनों ने तथा भारत बायोटेक के सभी वैज्ञानिकों के साथ-साथ देश के अन्य वैज्ञानिकों की कड़ी मेहनत से ही देश को पहली भारतीय वैक्सीन प्राप्त हो सकी। आपने बेहद ही कठिन परिस्तिथियों का सामना कर कोवाक्सिन का आविष्कार किया तथा देश को कोरोना जैसी गंभीर महामारी से बचाया। उन्होंने कहा कि वैज्ञानिक आने वाले कल के अग्रदूत हैं, जो अपने समर्पण, रचनात्मकता और ज्ञान की निरंतर खोज के माध्यम से भविष्य को आकार दे रहे हैं। चिकित्सा के क्षेत्र में, वैज्ञानिक बीमारियों के नए उपचार और इलाज खोजने, स्वास्थ्य देखभाल में सुधार करने और जीवन बचाने के लिए अथक प्रयास करते हैं, जोकि हम सब के लिए गर्व की बात है। राज्यपाल हरियाणा …
  • मुख्यमंत्री ने कांगड़ा जिला को दी 784 करोड़ रुपये की 33 विकास परियोजनाओं की सौगात
    मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने बुधवार को कांगड़ा जिले के अपने दौरे में देहरा और नगरोटा बगवां विधानसभा क्षेत्र में 784 करोड़ रुपये की 33 विकास परियोजनाओं के उद्घाटन और शिलान्यास किए।मुख्यमंत्री ने देहरा विधानसभा क्षेत्र में 356.02 करोड़ रुपये की 3 परियोजनाओं की आधारशिलाएं रखीं। उन्होंने देहरा के वनखंडी में 350 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले वन्य प्राणी उद्यान की आधारशिला रखी।उन्होंने देहरा विस में 6.02 करोड़ रुपये की दो सड़कों नैहरन पुखर से बाड़ा वाया भरूण तथा चिंतपुरनी से बरवाड़ा के कार्य का शिलान्यास किया।इसके उपरांत मुख्यमंत्री ने नगरोटा बगवां के गांधी मैदान में नगरोटा बगवां तथा पालमपुर विधानसभा क्षेत्र के लिए 427 करोड़ रुपये की 30 विकास परियोजनाओं के उद्घाटन और शिलान्यास किए।उन्होंने राजीव गांधी राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज नगरोटा बगवां के 6.50 करोड़ रुपये से निर्मित पुस्तकालय तथा कंप्यूटर सेंटर का उदघाटन किया। इसके अलावा उन्होंने 3.80 करोड़ रुपये की लागत के राजकीय फार्मा कॉलेज में बने 100 बच्चों की क्षमता के छात्र छात्रावास का लोकार्पण तथा 41.47 करोड़ रुपये से बने 200 बिस्तरों के श्री जी.एस. बाली मातृ शिशु अस्पताल टांडा का उद्घाटन किया।मुख्यमंत्री ने राजीव गांधी इजीनियरिंग कॉलेज में 6.80 करोड़ रुपये से बने 33 केवी सब स्टेशन का लोकार्पण भी किया। …
  • सरकारी क्षेत्र में की जा रहीं 20 हजार भर्तियां: मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू
    आत्मनिर्भर हिमाचल के निर्माण की ओर मजबूती से बढ़ रही प्रदेश सरकारपर्यटन की दृष्टि से महत्वपूर्ण साबित होगा 350 करोड़ रुपये से बनने वाला वन्य प्राणी उद्यान मुख्यमंत्री ठाकुर सुखविंदर सिंह सुक्खू ने कहा कि प्रदेश सरकार आत्मनिर्भर हिमाचल बनाने की दिशा में मजबूती से आगे बढ़ रही है। इसके लिए नीतियों-कानूनों में आवश्यक बदलाव किए जा रहे हैं। उन्होंने यह बात आज कांगड़ा जिले के देहरा और नगरोटा बगवां में जनसभाओं को संबोधित करते हुए कही।मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल सरकार युवा हितैषी सरकार है और उनके लिए सरकारी क्षेत्र में 20 हजार भर्तियां की जा रही हैं। जलशक्ति विभाग में करीब 10 हजार युवाओं को नौकरी देने के साथ ही शिक्षा विभाग में 6500, पुलिस विभाग में 1231, वन विभाग में 2061 तथा खनन विभाग में करीब 100 भर्तियां की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि सरकारी क्षेत्र में नौकरियां देने के साथ ही अन्य क्षेत्रों में भी रोजगार एवं स्वरोजगार के अवसर सृजित किए जा रहे हैं। प्रदेश सरकार यह भी सुनिश्चित कर रही है कि भर्ती प्रक्रिया को पूरी तरह पारदर्शी और मेरिट आधारित बनाया जाए।देहरा के बगलामुखी में जनसभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि देहरा क्षेत्र के विकास में कोई कमी नहीं …
  • Municipal Corporation celebrates Swachh Mahila Divas
    *Chandigarh, March 6:-* Aimed to honor the contributions and hard work of women employees who displayed exemplary dedication in providing essential services to society in the field of public health, the MC Chandigarh recognized their remarkable achievements by celebrating “Swachh Mahila Divas” organized at the Community Centre, Sector-35, here today. City Mayor Sh. Kuldeep Kumar honored all women with an appreciation certificate in the presence of area councillor Smt. Prem Lata and other councillors, along with senior officials of MC Chandigarh. The event served as a platform to acknowledge their relentless efforts and outstanding commitment to the betterment of the community. While speaking on the occasion, the Mayor said that the Municipal Corporation recognized the pivotal role played by women employees in contributing towards public health service deliverables in Chandigarh. Their unwavering dedication and tireless efforts have significantly contributed to the success of various initiatives and programs undertaken by the Corporation. In total, more than 80 women have been honored at the Swachh Mahila Divas celebration, including 20 women presidents of Area Level Federations, Self Help Groups, and other women staff members from eminent MCC branches. Their exceptional contributions and dedication to public health service deliverables have been recognized and …
  • मोदी सरकार के राज़ ना खुलें, इसलिए एस बी आई ने इलेक्टोरल बॉन्ड्स की जानकारी चुनाव से पहले देने में जताई असमर्थता- पवन बंसल
    चंडीगढ़ पूर्व सांसद व वरिष्ठ कांग्रेस नेता पवन बंसल ने तीखी टिप्पणी करते हुए कहा कि इलेक्टोरल बॉन्ड पर एसबीआई का सुप्रीम कोर्ट से और वक़्त  मांगा जाना साफ करता है कि देश का सबसे बड़ा बैंक मोदी सरकार की तरफदारी कर रहा है। जून तक समय मिला तो ज़ाहिर है तब तक चुनाव हो जाएंगे जिसका मोदी सरकार को मिलेगा अप्रत्यक्ष रूप में फायदा । स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया ने सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि राजनीतिक पार्टियों को चंदा देने के लिए ख़रीदे गए इलेक्टोरल बॉन्ड की जानकारी चुनाव आयोग को देने के लिए 30 जून तक का समय दिया जाए। बंसल ने कहा कि एसबीआई ने इस सीधी सादी प्रक्रिया को ‘काफ़ी समय लेने’ यानी (साइलो) वाला काम बताते हुए समय की मांग की है। ऐसे में सबसे बड़ा सवाल ये है कि डिजिटलाइज़ेशन के दौर में कैसे ये सारा डाटा डिजिटल फॉर्म में बैंक के पास मौजूद नहीं है ? जबकि 5 साल पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने स्टेट बैंक को ये आदेश दिया था कि इलेक्टोरल बॉन्ड्स से जुड़ी सारी जानकारी तैयार करके रखी जाए। उसके बावजूद बैंक जून तक का समय मांग रहा है। 30 जून तक देश में लोकसभा चुनाव पूरे हो जाएंगे. …